4 तरह के इन्सुलिन डायबिटीज नियंत्रित करने के लिए

हमारे शरीर की अग्न्याशय (Pancreas) में beta cells इन्सुलिन नमक हॉर्मोन्स का उत्पादन करते है जिसका निस्तार आपकी राखत वाहिकाओं में ग्लूकोस की मात्रा एक सिमित दायरे से अधिक होने पर होता है|

insulin

Beta cells को किसी भी तरह की हानि होने पर इन्सुलिन का उत्पादन कम या पूर्ण रूप से ख़तम हो जाता है जिसकी वजह से आपकी राखत वाहिकाओं में ग्लूकोस की मात्रा बड़ जाती है और डायबिटीज हो जाती है|

दावा लेने पर भी डायबिटीज नियंत्रित ना होने पर आपके डॉक्टर आपको इन्सुलिन का इंजेक्शन लगाने की सलाह देते है|

इन्सुलिन इंजेक्शन में मौजूद रसायन का काम वही होता है जो की आपके शरीर से उत्पादित इन्सुलिन करता| इन्सुलिन दरहसल कोई दावा या गोली नहीं है, यह आपके शरीर के द्वारा उत्पादित रसायन ही है जो अब आप बहार से ले रहे है|

इन्सुलिन आपके शरीर में ब्लड शुगर नियंत्रित करता है जिससे आप ताक़तवर और ज़्यादा बेहतर महसूस करते है|

Insulin Injection

इन्सुलिन 4 प्रकार की होती है:

१. Rapid – acting इन्सुलिन: यह 15 मिनट में असर दिखती है और 2 से 4 घंटे तक आपकी डायबिटीज नियंत्रित रखती है|

२. Regular या Short – acting इन्सुलिन: यह रक्तचाप तक ३० मिनट में पहुचती है और 3 से 6 घंटे तक असर दिखती है|

३. Intermediate -acting इन्सुलिन: यह रक्तचाप तक 2 से 4 घंटे में पहुचती है और इसका असर 12 से 18 घंटे तक रहता है|

४. Long – acting इन्सुलिन: यह रक्तचाप तक पहुचने में बहुत समय लगाती है और आपके शरीर में 24 घंटे तक असर दिखती है|

अक्सर आपको आपके डॉक्टर premix insulin का इंजेक्शन लगाने के लिए बोलेंगे जो की ऊपर दिए गए इन्सुलिन में से किन्ही 2 का मिश्रण होता है|

अगर आपके डॉक्टर ने आपको इन्सुलिन लगाने की सलाह दी है तोह डरे मत और आज से ही इन्सुलिन लगाना शुरू करे और एक स्वस्थ जीवन की तरह अपना पहला कदम ले|

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *