डायबिटीज ने ली मेरे 5 साल के बचे की जान

हम बिहार के एक छोटे से शहर भवानीपुर में रहते है| हमारा विवाह कुछ वर्ष पहले 2010 में हुआ था और देवी माँ की कृपा से हमारे घर एक नन्हे बालक ने जनम लिआ| सब कुछ बोहोत अच्छा चल रहा था| हमारी पत्नी ने उसका बहुत अच्छे से लालन पालन किआ| वह भी बहुत मस्ती और शरारत करता था इसलिए हमने उसका नाम कन्हइया रखा था| उसे दिन भर अपनी माँ को तंग करना और हम जब काम से वापस घर आते थे तोह हमारे साथ नहुत खेलना अच्छा लगता था| उसकी मुस्कान मानो हमारे दिल को सुकून देती थी की हमारा बच्चा बहुत अच्छे से बढ़ रहा है| हमारा सपना था की हम उसे बड़े होके सरकारी अफसर बनाएँगे|

इसलिए हमने उसको छोटे बचो के स्कूल में भर्ती करवाया ताकि वह बचपन से ही पड़े लिखे में रूचि रखे|

Photo by Hermes Rivera from Unsplash

एक दिन अचानक से उसके स्कूल से फ़ोन आया की वह बेहोश हो गया है और उसको बहुत पसीना आ रहा है| वह कुछ बोल नई रहा था| हम ऑफिस से तुरंत भागे और स्कूल वालो के बताये अनुसार एक सरकारी अस्पताल में पहुंचे| वह पहुंच कर डॉक्टर से उसके बारे में पूछा तोह उन्होंने बताया की कुछ टेस्ट करने के बाद बताएँगे|

हम और हमारी पत्नी बहुत घबरा गए थे| अगले दिन डॉक्टर ने बताया की बचे को डायबिटीज है| हम दोनों परेशान क्योकि जहा तक हमे पता था तोह यह बीमारी बड़े बुज़ुर्ग लोगो को होती थी| हमने डॉक्टर की सलाह पर बड़े सरकारी अस्पताल में दिखाया जहा डॉक्टर ने दवाई और रोज़ दिन में 3 बार इंजेक्शन लगाने को कहा|

हम बहुत परेशान हो गए और अपने बेटे को वैद को दिखाया| वैद ने इलाज का भरोसा दिलवाया और डॉक्टर की दवा बंद करदी| हमारा हस्ता खेलता बीटा अब सुस्त, ख़ज़ूर और बीमार सा रहता था| वो ज़्यादा बोलता बी नई था| हमने वैद पे अँधा विश्वास किआ और उसने हमे डायबिटीज को 3 महीने में जड़ से ख़तम करने का आश्वासन दिया| हम बहुत खुश हो गए और डॉक्टर के कहे मुताबिक नहीं चले|

हमारा बीटा दिन बा दिन और कमज़ोर हो गया, कुछ 1 महीने बाद अचानक से एक दिन हमारा बीटा चलते चलते गिर गया, हम दफ्तर से भागते हुए घर पहुंचे और उसकी माँ बहुत ज़ोर से रू रही थी| हम बेटे को थपड मार मार के उठाने की कोशिश करी, 5 मिनट बाद पडोसी की मदद से पास के अस्पताल ले गए जहा डॉक्टर ने बेटे को मृत घोषित कर दिया| कारन पूछने पर हमे बताया गया की उसकी शुगर शरीर में बहुत समय से अनियंत्रित रहने की वजह से यह हादसा हुआ|

Diab.in Comment (टिप्पणी):

डायबिटीज की अब तक की सबसे प्रभावी दवाई अगर कोई है तोह इन्सुलिन का इंजेक्शन ही है| रोज़ आपको इसे अपने डॉक्टर के बताये गए अनुसार लगाना चाहिये| ऐसा ना करने पर आपके खून में ग्लूकोस (ब्लड शुगर) की मात्रा अस्थिर हो जाती है और इसके आपके शरीर पे बुरा असर होता है| ज़्यादा समय तक रही अनियंत्रित डायबिटीज की वजा से कोमा या जान भी जा सकती है| 

 

Facebook Comments